divya medha vati ke fayde

divya medha vati ke fayde दिव्या मेधा वटी एक्स्ट्रा पॉवर के फायदे

 

यह पतंजलि द्वारा निर्मित की गई एक आयुर्वेदिक दवा है,  जो शुद्ध जड़ी बूटी और हर्बल पदार्थों के मिश्रण से बनाई गई है । इसका उपयोग मानसिक समस्या तनाव कमजोरी के इलाज के लिए किया जाता है ।

medha vati ke fayde, दिव्या मेधा वटी एक्स्ट्रा पॉवर के घटक –

divya medha vati ke fayde बहुत सारी जड़ी बूटियों इसमें मिली रहती हैं ।

1- ब्राम्ही  ( 54.7 mg ) ~  यह घबराहट और डिप्रेशन दोनों की समस्याओ में बहुत उपयोगी होती है ।

2- शंखपुष्पी  ( 54.7 mg) ~   इसका उपयोग याददाश्त को बड़ाने में किया जाता है और  डिप्रेशन में भी इसका उपयोग किया जाता है।

3- अश्वगंधा ( 43.7mg) ,  मालकांगनी  , सौंफ ( 19 .3 mg )

4- पुष्कर मूल, शतावर सुगंध बाला , प्रवाल पिष्टी  ( 17mg).

5- मुक्ता पिष्टी ( 11.25 mg)  , जहर मोहरा  पिष्टी ( 19.3 mg) .

6- वाचा ( 43.7 mg).

divya medha vati ke fayde, दिव्य मेधा वटी के फायदे –

1 ) divya medha vati ke fayde वटी का उपयोग घबराहट की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है । जब घबराहट थोड़ी बहुत हो तो चल जाता है , लेकिन कुछ समय बाद घबराहट के दौरे पड़ने लगते हैं,  जिससे हमें पैनिक अटैक आने लगते हैं, शरीर का एक तरफ का हिस्सा सुन्न पड़ जाता है,  डर लगने लगता है, हृदय में दर्द होने लगता है, इस प्रकार की समस्या होने पर आप दिव्य मेधा वटी का सेवन कर सकते हैं आपको बहुत फायदा मिलेगा ।

2 ) इस दवाई का उपयोग डिप्रेशन से लड़ रहे मरीजों को ठीक करने में भी किया जाता है । जब हम किसी चीज से लड़ रहे हो कोई काम हो नहीं रहा हो , तो हमें उदासी सी छाने लगती है , किसी भी छोटी-छोटी बात का कुछ ज्यादा ही टेंशन ले लेना भी डिप्रेशन की एक बड़ी वजह होती है । इस दवाई का सेवन करने से यह सभी चिंताओं से मुक्त कर देता है और हम धीरे-धीरे डिप्रेशन की समस्या से बाहर आने लगते हैं।

3 ) इसका उपयोग नींद ना आने की बीमारी में भी किया जाता है,  नींद ना आने की कई वजह होती हैं, कभी हमें नींद बिल्कुल नहीं आती , कभी काम की वजह से लेट सोने की वजह से भी हमारी नींद चली जाती है,  तो इस सिरप  का उपयोग करने से हमें अच्छी नींद आने लगती हैं ।

4 ) divya medha vati ke fayde माइग्रेन की समस्या को दूर करने में यह बहुत फायदेमंद है इससे  माइग्रेन का दर्द बिल्कुल जड़ से ठीक हो जाता है ।

5 ) divya medha vati ke fayde हमारी याददाश्त को बढ़ाने में भी इस दिव्य मेधा वटी का उपयोग किया जाता है,  हम किसी चीज को भूल जाते हैं या ज्यादा लंबे समय तक याद नहीं रख पाते हैं , तब इस दवाई का सेवन करने से हमें बहुत फायदा मिलता है ।

6 ) divya medha vati ke fayde दवाई हमारे मस्तिष्क के  लिए बहुत फायदेमंद है , यह  हमारे मस्तिष्क में होने वाले हारमोंस की कमी को ठीक करती है । यह हमारे मस्तिष्क को ठीक रखने में मदद करती है।

7 ) divya medha vati ke fayde का उपयोग तंत्रिका तंत्र के रोगों को ठीक करने में,  जैसे मिर्गी के उपचार में भी किया जाता है । यह एंटीऑक्सीडेंट क्रिया करके तंत्रिका तंत्र को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाती है इस प्रकार से इसके सामान्य कार्यों को संरक्षित करती है ।

8 ) डाउन सिंड्रोम के रोग में भी इस दिव्य मेधा वटी का उपयोग किया जाता है।  वैसे तो डाउन सिंड्रोम का अभी तक कोई भी इलाज नहीं है , लेकिन फिर भी यह वटी शरीर में बौद्धिक कार्यों को बढ़ाकर उन सभी रोगियों के जीवन गुणवत्ता में सुधार करने में मदद करती है ।

medha vati ke fayde in hindi, दिव्या मेधा वटी की डोज –

1- इसको दिन में दो बार एक एक टेबलेट लेना है,  सुबह और  शाम खाना खाने के बाद इसका उपयोग करें ।

2- इसका सेवन आप पानी या फिर दूध के साथ कर सकते हैं।

3- अगर आपको कुछ ज्यादा ही समस्या है , तो आप इसे एक बार में दो टेबलेट भी ले सकते हैं । यानी दिन में चार टैबलेट इससे ज्यादा आप इसका सेवन ना करें ।

4- इसका उपयोग आप लगातार एक महीने तक  करें , इसके परिणाम तो आपको एक हफ्ते बाद ही देखने को मिल जाएंगे ।

patanjali medha vati ke fayde, दिव्या मेधा वटी के दुष्प्रभाव –

divya medha vati ke fayde एक औषधीय गुण रखने वाली दवाई है , इसलिए इसके कुछ ज्यादा या गलत परिणाम देखने को नहीं मिले हैं,  लेकिन इसकी गलत खुराक लेने पर आपको इसके दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं ।

1- इसको शुरू शुरू में लेने पर सिर दर्द हो सकता है।

2- पेट में दर्द और पेट में जलन की समस्या भी हो सकती है।

3- इसका उपयोग करने से हमें सामान्य एलर्जी भी हो सकती है,  जैसे शरीर पर लाल दाने पड़ना,  लाल निशान पड़ना  जैसे रोग हो सकते है.

divya medha vati uses in hindi, दिव्य मेधा वटी की सावधानियां –

1-divya medha vati ke fayde का उपयोग हमेशा डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए ।

2- गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका उपयोग करने से बचना चाहिए । अगर उनको इसकी ज्यादा ही आवश्यकता है , तो अपने डॉक्टर की सलाह लेने पर इसका उपयोग कर सकते हैं ।

3- 5 साल से कम उम्र के बच्चों को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए और 5 साल से अधिक उम्र के बच्चों को भी इसकी कम से कम डोज  देनी चाहिए ।

4- अगर दिव्य मेधा वटी में उपस्थित किसी भी पदार्थ से आपको किसी भी प्रकार की कोई एलर्जी है , तो इस दवाई को तुरंत बंद कर देना चाहिए ।

Note :

दोस्तों आज हमने आपको 
patanjali medha vati benefits in hindi, medha vati patanjali benefits in hindi, medha vati uses in hindi, medha vati ingredients in hindi, medha vati extra power uses in hindi, medha vati benefits in hindi, divya medha vati extra power benefits in hindi, divya medha vati price in hindi,
के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जानकारी चाइये तो हमारा ये ब्लॉग फॉलो करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.