Swasari Pravahi Uses In Hindi दिव्य श्वासारि प्रवाही के उपयोग

Swasari Pravahi Uses In Hindi

दिव्य श्वासारि प्रवाही के उपयोग –

swasari pravahi uses in hindi आज का दिव्य श्वासारि प्रवाही एक आयुर्वेदिक दवा है . इसका उपयोग मुख्य रूप रूप से फेफड़ों में श्वसन संबंधी समस्याओं के उपचार में किया जाता है । इसके इस्तेमाल से सर्दी , खांसी , जुकाम , छाती में जकड़न , गले में दर्द जैसी समस्याओं में आराम मिलता है । यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी काफी सहायक है । जिससे शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है । और शरीर बीमारियों से दूर रहता है  , इसके अलावा भी इसके कई सारे लाभ हैं ।

बदलते मौसम के साथ ही सर्दी , खांसी , जुखाम का खतरा भी बढ़ जाता है  । साथ ही गला दर्द,  छाती में कफ जमना व फेफड़ों से संबंधित कई प्रकार की समस्याएं होने लगती हैं। इन सभी समस्याओं से बचने के लिए दिव्य श्वासारि प्रवाही का उपयोग बेहद फायदेमंद माना जाता है. इसके उपयोग से सर्दी खांसी जैसी समस्याओं में आराम तो मिलता ही है , साथ में यह श्वसन प्रणाली संबंधी सभी समस्याओं के उपचार में भी काफी सहायक होता है । अस्थमा से लड़ रहे लोगों के लिए भी swasari pravahi uses in hindi बहुत उपयोगी दवा है ।

Patanjali swasari pravahi benefits in hindi दिव्य श्वासारि प्रवाही को बनाने का तरीका –

दिव्य श्वासारि प्रवाही swasari pravahi uses in hindi एक आयुर्वेदिक दवा है , जिसे बनाने में कई प्रकार की जड़ी बूटियों का उपयोग किया जाता हैं। जैसे ~ काली मिर्च , अमलतास , लसोड़ा , भृंगराज , तेजपत्र,सोंठ , लवंग, तुलसी देसी, छोटी पिप्पल , मुलेठी , काला वासा , कटेली बडी , सफेद वास्का , बनफ्शा , दालचीनी ।

Swasari Pravahi Uses In Hindi

Divya swasari pravahi uses in hindi दिव्य श्वासारि प्रवाही के उपयोग –

1- सभी प्रकार की स्वसन समस्याओं के लिए दिव्य श्वासारि प्रवाही सिरप लाभकारी दवाई है इसके उपयोग से श्वसन प्रणाली बेहतर ढंग से काम करती है।

2- सर्दी , खांसी , जुकाम  के लिए यह एक बेहतरीन सिरप है ।  लंबे समय से चल रही खांसी के उपचार के लिए भी इसका उपयोग बहुत लाभकारी हो सकता है।

3- यह छाती में जमा बलगम निकालने में भी काफी सहायक है । इसके इस्तेमाल से छाती में जमा बलगम पतला होकर बाहर निकलने लगता है।

Also See : Nurokind Od Tablet Uses In Hindi Nurokind OD टेबलेट के उपयोग

4- दिव्य श्वासारि प्रवाही swasari pravahi uses in hindi के उपयोग  करने से फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा हैं । यह फेफड़ों को संक्रमण से बचाने और उन्हें मजबूत बनाने में सहायक होता है। साथ ही यह फेफड़ों में बलगम जमा नहीं होने देता ।

5- गले में दर्द , सूजन और इन्फेक्शन दूर करने में भी दिव्य श्वासारि प्रवाही बेहद लाभकारी है।

6- यह अस्थमा के लिए काफी उपयोगी दवा है।

7- शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी swasari pravahi uses in hindi बहुत अच्छी दवाई है  । इसमें शामिल जड़ी बूटियां  शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है  । जिससे हानिकारक  पदार्थ शरीर में जल्दी प्रवेश नहीं कर पाते ।

8- आज का दिव्य श्वासारि प्रवाही सिरप का उपयोग ज्यादातर इन बीमारियों के लिए उपयोग में लाया जाता है। ~ सर्दी , खांसी , जुकाम , नाक से पानी बहना , गला दर्द , गले में खराश , गले में सूजन , निमोनिया , अस्थमा , फेफड़ों का संक्रमण , फेफड़ों में दर्द , फेफड़ों में बलगम जमना , छाती मजकड़न, श्वसन संबंधी समस्या , कमजोर इम्यूनिटी।

9- swasari pravahi uses in hindi उपयोग ब्रोकरेज के उपचार में किया जा सकता है।

10- यह छाती में श्लेष्मा के अत्यधिक संचय को नष्ट करने में सहायक है ।

11- यह फेफड़ों और  लंग्स  के सही काम करने में मदद करता है ।

12- यह सांस की कोशिकाओं को पोषण प्रदान करने में मदद करता है।

13- यह वायु मार्ग में रुकावट दूर कर सांस लेने में मदद करता है ।

14- यह सांस की नली में सूजन को कम करने में सहायक हो सकता है।

15- यह सांस  की सभी प्रकार की बीमारियों के इलाज में मदद करता है ।


swasari pravahi patanjali uses in hindi
दिव्य श्वासारि प्रवाही को लेने का तरीका –

इस swasari pravahi uses in hindi का सेवन डॉक्टर के सलाह के बाद ही करना चाहिए।  सामान्य तौर पर इसके एक से दो चम्मच दिन में दो बार लिया जा सकता है । इससे ज्यादा इसका सेवन ना करें । किसी भी प्रकार की समस्या में इसका उपयोग डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही करें ।

1- डॉक्टर द्वारा बताई गई मात्रा में ही इसका सेवन करें। इससे ज्यादा इसका सेवन ना करें ।

2- अगर आपको दिव्य श्वासारि प्रवाही में शामिल किसी तत्व से एलर्जी है , तो फिर इसके सेवन से बचें ।

3- अगर आपको लिवर , हार्ट , किडनी , ब्लड प्रेशर से संबंधी कोई परेशानी है या किसी तरह की कोई गंभीर बीमारी है , तो इसके बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं ।


swasari pravahi ke fayde,
सावधानियां –

अगर आप पहले से किसी प्रकार की दवाइयों का सेवन कर रहे हैं , तो इसके विषय में भी आपडॉक्टर को बताएं ।

1- इसका इस्तेमाल करने से पहले भी इस पर लिखे हुए निर्देश अच्छे से पढ़ लें ।


swasari kwath benefits in hindi,(patanjali swasari kwath benefits in hindi)
दिव्य श्वासारि प्रवाही के नुकसान –

दिव्य श्वासारि प्रवाही का अभी तक किसी भी प्रकार की कोई भी साइड इफेक्ट सामने नहीं आए हैं । लेकिन इसका इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए और अगर आपको इसके सेवन से किसी भी प्रकार की परेशानी महसूस हो , तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें । इसका अधिक सेवन ना करें  । डॉक्टर द्वारा बताई गई मात्रा का ही सेवन करें ।


swasari kwath uses in hindi,(patanjali swasari kwath benefits in hindi)
सावधानियां-

किसी भी दवाई के उपयोग करने से पहले उसकी सावधानियां जानना बहुत जरूरी है । यह जानने के बाद ही  कोई भी दवाई उपयोग करना चाहिए। क्योंकि जब भी किसी दवाई के  कोई फायदे होते हैं, तो उसके नुकसान भी जरूर होते हैं ।

1- इसे 4 से 6 सप्ताह से अधिक समय तक  इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए ।

2- कम दिन तक लेने में इसका कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं देखा जाता ।

3- इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखें ।

4- इसे ज्यादा मात्रा में ना लें ।

5- गर्भावस्था में इसे नहीं लें ।

6- इस में शुगर होती है , इसलिए डायबिटीज में इसे सावधानी से प्रयोग करें  । यदि आपको बहुत ज्यादा शुगर है, तो इसका सेवन ना करें । यदि शुगर कम है , तो कुछ मात्रा में मीठे का प्रयोग कर सकते हैं , तो इसे भी लिया जा सकता है।

7-निर्धारित मात्रा में और निर्धारित समय तक लेने से इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है ।

Note :

दोस्तों आज हमने आपको patanjali swasari pravahi, divya swasari pravahi uses in hindi और swasari pravahi patanjali uses in hindi के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जानकारी चाइये तो हमारा ये ब्लॉग फॉलो करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.