Sheesham Ke Patte Ke Fayde

sheesham ke patte ke fayde, शीशम के पत्तो के फायदे –

Sheesham Ke Patte Ke Fayde

1 ) sheesham ke patte ke fayde का उपयोग इस स्तन कैंसर की बीमारी को ठीक  करने के लिए भी किया जाता है। महिलाओं में स्तन कैंसर एक बहुत बड़ी समस्या है , महिलाएं स्तनों में कड़ापन या गांठ महसूस करे तब या उनको स्तन कैंसर की प्रारंभिक अवस्था का पता चल जाए तो ये शीशम के पत्तो को पीसकर रोज नियमित रुप से स्तन पर लगाकर रखने से उनकी गांठ मिट जाती है और आपके स्तन पहले जेसे हो जाते हैं।

2 ) अगर आपको स्तन में  दर्द होता है  इस परिस्थिति में भी आप इस शीशम के पत्तों की मदद से दर्द को कम कर सकते हैं ।इसकी पतियों को तोड़ कर एक लोहे के तवे पर गर्म करके उसमें थोड़ा घी मिलाकर अपने स्तनों पर बांध लेना चाहिए , इससे आपका दर्द बहुत जल्दी ठीक हो जाता है।

3 ) Sheesham Ke Patte Ke Fayde का उपयोग मनुष्य और पशु दोनों के लिए किया जाता है , अगर पशुओं के दूध की मात्रा बढ़ानी है, तो भी इन पत्तो का इस्तेमाल किया जाता है।

Also See : Fast Relief Spray

4 ) Sheesham Ke Patte Ke Fayde का इस्तेमाल स्तन के आकर को बड़ाने के लिए भी किया जाता है, आज के फैशन के जमाने में लड़किया अपने स्तन को सुडौल और सुंदर बनाना चाहती है, इसके लिए वे बहुत प्रकार की क्रीम का इस्तेमाल करती है, लेकिन शीशम के पत्तों का उपयोग करने से स्तनों का आकार बहुत ही जल्दी बढ़ने लगता है।

5 ) जिन लोगों को बहुत ज्यादा गर्मी लगती है और बहुत ज्यादा प्यास लगती है ,उन लोगों के लिए भी शीशम के पत्तों का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है ।इन पत्तों को तोड़कर पानी में पीसकर और उसमें थोड़ी मिश्री मिलाकर शरबत की तरह रोज पीने से आपकी गर्मी लगने की समस्या और प्यास लगने की समस्या दोनों ठीक हो जाएगी। यह गर्मी से संबंधित किसी भी समस्या के लिए बहुत ही अच्छी औषधि है।

6 )  Sheesham Ke Patte Ke Fayde का उपयोग महिलाओ की ओवर ब्लीडिंग की समस्या को ठीक करने के लिए भी किया जाता है। जिन भी लड़कियों को महिलाओं को बहुत ज्यादा खून आने की समस्या है, वह सभी शीशम के पत्तों को पीसकर पानी के साथ मिलाकर रोज पी उनको इस समस्या से बहुत ही जल्दी निजात मिलेगा।

7 ) जिन लोगों को रुक रुक कर पेशाब आती है और दिन में बहुत बार पेशाब जाते है, उन सभी लोगों के लिए शीशम एक वरदान है इसका प्रयोग करने से पेशाब समय से आएगी।

8 ) शीशम के पत्तों का इस्तेमाल जहर निवारक के लिए भी किया जाता है ।जैसे किसी विषैले कीड़े ने किसी को काट लिया हो ,तब इस स्थिति में शीशम के पत्तों को पानी में उबालकर उसमें थोड़ी नीम की पत्तियां डालकर और नमक डालकर उस स्थान पर अच्छी तरीके से सिकाई करनी चाहिए इससे उसका विषैलापन कम हो जाता है और व्यक्ति को फायदा मिलता है।

9 ) शीशम के पत्तों का इस्तेमाल स्किन संबंधी समस्याओं को ठीक करने के लिए भी किया जाता है ।जैसे कि दाद ,खाज , खुजली इन सभी त्वचा संबंधी रोगों को शीशम के पेड़ की मदद से ठीक किया जा सकता है। जैसे कि एक बहुत पुराना शीशम का पेड़ हो और उसकी 1 किलो लकड़ी को 4 किलो पानी में अच्छे तरीके से उबाल लेना चाहिए और इतनी देर तक उबालना चाहिए ,कि उस पदार्थ का केवल 2 किलो मात्रा ही बचे और उसको छान लेना चाहिए। छाने हुए पदार्थ में कुछ नीम की पत्तियों को भी डाल लेना चाहिए और ढाई सौ ग्राम सरसो के तेल को मिला लेना चाहिए ।फिर उसके बाद उस पदार्थ को पुनः गर्म करना चाहिए, इतनी देर तक गर्म करना है कि इन सभी पदार्थों का एक बहुत ही गाढ़ा द्रव बन जाए और उस गाड़े द्रव को छानकर एक डब्बे में भर लेना चाहिए। उसके बाद प्रतिदिन उस तेल का इस्तेमाल अपनी बॉडी पर करना चाहिए ,इससे आपको जहां भी दाद, खाज ,खुजली की समस्या है ,इससे सभी रोग दूर हो जाएंगे अगर आपको स्किन संबंधित कोई भी समस्या है तो इसका इस्तेमाल अवश्य कीजिए।

10 ) शीशम के पत्तों का प्रयोग डायबिटीज के मरीजों के लिए भी किया जाता है। शीशम के पत्तों को ,सदाबहार के पत्तों और नीम के पत्तों के साथ मिलाकर उबालकर डायबिटीज के मरीजों को रोज देने से उनकी डायबिटीज धीरे-धीरे कम होने लगती है और डायबिटीज के कारण उनके शरीर में जो भी कमजोरी आ जाती है ,उसको भी दूर किया जा सकता है।

11 ) जिन भी लड़कियों को मासिक धर्म के समय दर्द होता है, वह सभी शीशम के पत्तो का इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके पत्तों का उपयोग करने से दर्द में राहत भी मिलती है और ब्लड भी कम आता है।

Note –

दोस्तों आज हमने आपको sisam ke patte, sheesham ke patte ke fayde, sisam ke patte ke fayde,sheesham ke patte khane ke fayde,sheesham ke patte, shisham ki patti  के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जानकारी चाइये तो हमारा ये ब्लॉग फॉलो करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *