radharani pranam mantra

radharani pranam mantra, राधारानी प्रणाम मंत्र –

 

radharani pranam mantra, आज के इस लेख में हम बात करेंगे माता राधा रानी के प्रणाम मंदिर के बारे में दोस्तों जैसा कि हम सभी जानते हैं। माता राधा हमारे लिए और भगवान कृष्ण के लिए कितनी प्रिय थी इसलिए जब भी राधा कृष्ण का नाम लिया जाता है ,तो सबसे पहले श्री राधा का नाम ही आता है ,क्योंकि इस संसार में भगवान कृष्ण से पहले श्री राधा आई थी इसलिए कितना महत्व श्री कृष्ण के जीवन में राधा का था उतना ही महत्व श्री राधा के जीवन में श्री कृष्ण का था ।

radharani pranam mantra, श्री राधा बहुत ही सुंदर और बहुत ही सुशील कन्या थी वह माता लक्ष्मी जी का मूर्ति थी।हम सब ने पढ़ा है और देखा है श्री कृष्ण और श्री राधा एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे , लेकिन कभी उनकी शादी नहीं हो पाई उनके इस प्रेम से हमें यही सीखने को मिलता है कि जरूरी नहीं अगर प्यार है ,तो शादी भी है दूर रहकर भी एक दूसरे का साथ और प्यार निभाया जा सकता है ।इसलिए जब भी संसार में प्यार की बात होती है तो सबसे पहले राधा और कृष्ण का नाम ही आता है।

radharani pranam mantra, राधा श्री कृष्ण से भी बहुत बड़ी शक्तिशाली और बुद्धिमान थी जब भी श्री कृष्ण किसी उलझन में पढ़ते थे, श्री राधा ही उनको समझाते थे। वह सुंदरता की देवी तो थी ही पर वह धैर्य की देवी भी थी ,इसलिए जब भी राधा कृष्ण का नाम कोई भी संसार में लेता है ,तो सबसे पहले श्री राधा का नाम ही किया जाता है।

radharani pranam mantra, हम सब बहुत सारे भजन कीर्तन जानते हैं ,कृष्ण जी की आरती ,राम जी की आरती, शिवजी की आरती और गणेश जी की आरती भी जानते हैं और इनके मंत्र भी हम सभी को आते हैं, लेकिन आपने कभी भी श्री राधा के मंत्र का जप नहीं किया होगा इसलिए आज के इस लेख में हम राधा रानी के प्रणाम मंत्र का वर्णन करेंगे।

radharani pranam mantra, कहा जाता है भगवान श्री कृष्ण के दाम भाग से राधा जी प्रकट हुई थी ।वह परम शांत परम कामिनी है और सुशील थी श्री कृष्ण के हरदा से प्रकट होने के कारण ही वह श्री कृष्ण स्वरूपा कहलाई। राधा कृष्ण का निश्चल प्रेम इस दुनिया से बिल्कुल परे है। एक बार भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं शंकर जी से कहा ही रूद्र यदि मुझे बस में करना चाहते हो तो मेरी प्रियतमा श्री राधा का आश्रय गृह करो इसी तरह श्री राधा को प्रसन्न करने के लिए श्री कृष्ण की आराधना करनी चाहिए, अर्थात सभी को वैष्णव की ही आराधना करनी चाहिए।

 

राधारानी प्रणाम मंत्र-

radha pranam mantra,

1 ) प्त कांचन ओ गौरंगी राधे वृंदावन ेश्वरी।

वृषभानु सोते देवी प्रणामी हरि प्रिय।।

अर्थ ~ इस मंत्र का अर्थ है श्री राधा रानी की जो कांति है वह पिघले हुए सोने की तरह है , और वह वृंदावन की ईश्वरी हैं।

यह वृषभानु की पुत्री है , और यह भगवान श्री विष्णु की प्रिय है।

krishna pranam mantra,

2 ) radharani pranam mantra ओम हीम राधिकाए नमः ।ओम हीम राधा काय स्वाहा।

अर्थ~ इस मंत्र को लक्ष्मी प्राप्ति के लिए बहुत ज्यादा विशेष माना गया है और इस मंत्र का राधा अष्टमी के दिन जब करने से आपको कभी भी पैसों की तंगी महसूस नहीं होगी।

shri krishna pranam mantra,

3 ) radharani pranam mantra, हे राधा करुणा सिंधु दीन बंधु जगतपते, कृष्ण प्रिय कृष्णकांत नमोस्तु ।

vaishnav pranam mantra,

4 ) नमो महा बदा न्याय ,राधा प्रेम प्रदायते । राधाय राधा चैतन्य नामने गोर तविशे नमः।।

pranam mantra

5 ) radharani pranam mantra, जय श्री राधा चैतन्य प्रभु नित्यानंद श्री अद्वैत गदाधर श्रीवास आदि गोर भक्त वृंद ।

 

Note –

दोस्तों आज हमने आपको levocetirizine tablet in hindi, levocetirizine uses in hindi, levocetirizine dihydrochloride tablet in hindi,  के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जानकारी चाइये तो हमारा ये ब्लॉग फॉलो करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *