protein ki khoj

protein ki khoj, प्रोटीन की खोज किसने की थी –

 

protein ki khoj, प्रोटीन हमारे शरीर के लिए बहुत उपयोगी होता है ,अगर हमें उपयुक्त मात्रा में प्रोटीन ना मिले तो हमारा शरीर बहुत ज्यादा कमजोर हो जाता है और बीमारियां भी होने लगती हैं , इसलिए हमें अपने खाने पीने का ध्यान रखना चाहिए और अपने शरीर में उपयुक्त मात्रा में प्रोटीन पहुंचाना चाहिए क्योंकि अगर हम थोड़ा कम खाना खाएंगे या फिर कोई भी ऐसा खाना खाएंगे जिसमें प्रोटीन ना हो तो इससे हमारे शरीर में कमजोरी भी आने लगती है, इसलिए आपको हेल्थी खाना खाना चाहिए जिसमें अधिक प्रोटीन की मात्रा हो।

protein ki khoj, ऐसी बहुत सारी खाने की चीजें होती हैं ,जिनमें प्रोटीन होता है और सबसे ज्यादा प्रोटीन तो फलों में, दूध में ,पनीर में मिलता है। यह हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होती है अगर हो सके तो हमें रोज दूध का ,पनीर का सेवन करना चाहिए इसमें सबसे ज्यादा मात्रा में प्रोटीन मिलता है।

protein ki khoj, प्रोटीन के बारे में हमने इतनी सारी बातें जान ली है, लेकिन हम यह नहीं जानते हैं कि सबसे पहले प्रोटीन की खोज किसने की थी , किस वैज्ञानिक ने हमारे शरीर में प्रोटीन की खोज की और यह जाना कि कोई ऐसा पदार्थ होता है हमारी बॉडी में जिसे प्रोटीन मिलता है और हमें कितनी मात्रा में अपने शरीर में प्रोटीन पहुंचाना चाहिए और हमारे लिए प्रोटीन क्यों जरूरी होता है, लेकिन आज के इस लेख में हम यही बात करेंगे की रूटीन का आविष्कार किसने किया था और कब किया था।

protein ki khoj kisne ki thi, प्रोटीन की खोज किसने की थी –

1 ) carbohydrate ki khoj kisne ki –

protein ki khoj, जैसा कि आप सभी जानते हैं, प्रोटीन जितने भी जीवित प्राणी होते हैं उनके लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होती है हमारे शरीर में हर तरह के प्रोटीन बहुत जरूरी होते हैं। प्रोटीन हमारे शरीर में ऊर्जा का स्रोत होते हैं ,शरीर को स्वस्थ रखने में हमारी मदद करते हैं। प्रोटीन की कमी के कारण हमारे शरीर मैं बहुत सारी कमियां जाती हैं ,जिसकी वजह से हमारा शरीर वृद्धि करना बंद कर देता है और आजकल के जितने भी लोग हैं उन सभी के शरीर में प्रोटीन की कमी पाई जाती है, क्योंकि वह अच्छी तरह से खाना नहीं खाते हैं जिसके कारण प्रोटीन कम पड़ जाता है।

2 ) protein ki khoj kisne ki

protein ki khoj, तो विश्व में सबसे पहले प्रोटीन की खोज 1838 में डच रसायन वैज्ञानिक और स्वीडन रसायन वैज्ञानिक ने की थी। उन दोनों वैज्ञानिकों ने मिलकर प्रोटीन का मौलिक विश्लेषण किया और उसमें उन्होंने पाया कि प्रोटीन का सूत्र C 400 86209 10120 p1S1 था ।

3 ) anafortan use in hindi

protein ki khoj, प्रोटीन का अविष्कार तो इन दोनों वैज्ञानिकों ने किया था, लेकिन प्रोटीन के अंगो का वर्णन करने के लिए इसका नाम मोल्डर के सहयोगी वर्जिलियस द्वारा प्रस्तावित किया गया था।

4 ) anafortan uses in hindi

protein ki khoj, इसके बाद जर्मन के वैज्ञानिक कारण 1 वोल्ट ने यह साबित किया कि प्रोटीन शरीर की संरचना को बनाए रखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व होता है और फिर फैब्रिक सिंगल ने 1949 में अमीनो एसिड के बजाय ब्रांचched चेन,कोलायत के शामिल होने का प्रदर्शन किया और इस उपलब्धि के लिए उनको 1958 में एष्टा में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया ।

5 ) protein ki khoj, सन 1958 में वैज्ञानिक मैक्स पैटर्न और सर्वजन कादरी द्वारा रिमूव लॉगिन और मायोग्लोबिन प्रोटीन की संरचना को हल किया गया और उन्होंने पाया कि प्रोटीन की संरचना में लगभग 126 से अधिक परमाणु संकल्प संरचना में है और उसके बाद में भी प्रोटीन के ऊपर बहुत से ऐसे रिचार्ज किए जाए परमाणु है । इस संरचना को बनाने के बाद इसकी और अधिक जानकारी लेने की कोशिश की गई और यह बताया लगाया गया कि शरीर के लिए प्रोटीन कितना ज्यादा लाभदायक होता है और प्रोटीन किस किस पदार्थ में पाया जाता है कौन सा भोजन लेने से हमारे शरीर में प्रोटीन की कमी पूरी हो जाती है ।

6 ) protein ki khoj, इस लेख में हमने यह जान लिया है कि प्रोटीन क्या होता है ,किस ने इसका निर्माण और कब किया गया था और बाकी हम सब जानते हैं कि कौन-कौन से खाने में प्रोटीन अधिक पाया जाता है।

 

Note –

दोस्तों आज हमने आपको lprotein ki khoj kisne ki thi protein ki khoj kisne ki carbohydrate ki khoj kisne ki के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जानकारी चाइये तो हमारा ये ब्लॉग फॉलो करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *