mahabharat kab likhi gayi

mahabharat kab likhi gayi, महाभारत किसने लिखी  –

 

mahabharat kab likhi gayi, हर कोई महाभारत के युद्ध से तो वाकिफ है , लेकिन महाभारत किसने लिखी इसके बारे में कुछ लोगों को थोड़ा कंफ्यूजन है।  ज्यादातर लोगों को पता है , कि महाभारत महर्षि वेदव्यास द्वारा लिखी गई है,  हालांकि कुछ लोगों को इस बात की जानकारी है कि महर्षि वेदव्यास ने महाभारत की कथा को सिर्फ बोला था , जबकि महाभारत की लेखनी महादेव और पार्वती के पुत्र गणपति यानी कि गणेश जी ने की थी।  धार्मिक कथा के अनुसार जिस वक्त महर्षि वेदव्यास महाभारत नाम के महाकाव्य की रचना करने वाले थे । वह एक ऐसे लेखक की खोज कर रहे थे , जो उनके विचारों को बाधित न करें और लगातार लिखता रहे ।

mahabharat kab likhi gayi, इस बारे में जब उन्होंने सोचा तो महर्षि वेदव्यास को गणपति जी के विद्या और लेखनी के बारे में याद आई । शास्त्रों में भी दुखहर्ता गणपति की लेखन शक्ति को अद्वितीय माना गया है। इस क्रम में महर्षि वेदव्यास ने भगवान गणेश  से आग्रह किया , कि वह उनके महाकाव्य के लेखक बने महर्षि वेदव्यास की बातें सुनने के बाद गणपति जी तैयार हो गए परंतु उन्होंने एक शर्त रखी । यह भी कहा जाता है कि महर्षि वेदव्यास जी ने हिमालय के किसी गुफा में ध्यान करके मन ही मन में महाभारत की रचना कर दी थी । लेकिन इस ज्ञान को आमजन तक पहुंचाने के लिए इससे बिना गलती के लिखना जरूरी था । अंता ब्रह्मा जी के सुझाव पर वेदव्यास जी गणेश जी के पास जाते हैं और महाभारत लिखने का प्रस्ताव रखते हैं ।

mahabharat kab likhi gayi, जब महर्षि वेदव्यास जी ने ब्रह्मा जी से कहा कि भगवान मैंने इस महाकाव्य में समस्त वेदों , उपनिषदों , इतिहास और पुराणों का मंथन कर के चारों वर्णों के कर्तव्य को निर्दिष्ट करते हुए इस ग्रंथ की रचना की है । न्याय, शिक्षा,  ज्योतिष, दान,  धर्म,  समाज ,भूगोल,  भाषाओं , जातियों , कला, संस्कृति इत्यादि जितनी भी विशेषताएं लोक व्यवहार की समृद्धि  के लिए आवश्यक हैं एवं जितने भी लोकोपयोगी पदार्थ हो सकते हैं । उन सब का प्रतिपादन इसमें किया है , परंतु मुझे इस बात की चिंता है , कि इस पृथ्वी पर ऐसा कोई नहीं है,  जो महाभारत को लिख सके । तब ब्रह्मा जी ने महर्षि वेदव्यास को भगवान गणेश जी का सुझाव दिया ।

mahabharat ki rachna kab hui , गणेश जी की शर्त –

mahabharat kab likhi gayi, महर्षि वेदव्यास ने गणेश जी से कहा कि वह महाभारत के लेखक तो बनेंगे परंतु महर्षि एक क्षण के लिए भी कथावाचन में विश्राम नहीं लेंगे । यदि महर्षि एक पल के लिए कथावाचनमें विश्राम लेंगे तो गणेश जी लिखना छोड़ देंगे। साथ ही कहा कि वह  हर पंक्ति लिखवाने से पहले उसका अर्थ समझाना होगा ।

mahabharat kisne likhi thi, महर्षि वेदव्यास ने मांगी मानी गणेश जी की शर्त –

mahabharat kab likhi gayi, गणेश जी की शर्त मानने के बाद महर्षि वेदव्यास आमने सामने बैठ गए और बहुत अधिक गति से बोलना प्रारंभ किया और उतनी ही तेज गति से भगवान गणेश ने महाकाव्य को लिखा ।

mahabharat kaun likha hai , कितना समय लगा महाभारत लिखने में –

mahabharat kab likhi gayi, ऐसा कहा जाता है , कि महाभारत की लेखनी का कार्य 3 वर्षों में हुआ था । इन 3 वर्षों में भगवान गणेश जी ने एक बार भी महर्षि वेदव्यास को एक क्षण के लिए भी नहीं रोका और महाकाव्य के लेखन का कार्य पूरा किया ।महाभारत हिंदू धर्म का पवित्र ग्रंथ है । महाभारत में महाभारत युद्ध का इतिहास लिखा है ।  महाभारत युद्ध कौरव और पांडवों के बीच हुआ था । जिसमें भगवान श्री कृष्ण ने पांडवों का साथ दिया था तथा युद्ध के प्रत्येक क्षण पांडवों का मार्गदर्शन किया था , जिससे पांडव युद्ध में कौरवों से विजय हुए थे ।

mahabharat kab likhi gayi, महाभारत विश्व का सबसे लंबा साहित्य ग्रंथ है,  हिंदू धर्म में चार वेद हैं और महाभारत को हिंदू धर्म में पंचम वेद भी कहा जाता है महाभारत सनातन धर्म के आदर्श और संस्कारों का इतिहास है।  श्रीमद् भगवत गीता महाभारत ग्रंथ का ही एक भाग है । महाभारत में कुल 1,10,000 श्लोक मौजूद हैं , महाभारत की घटना को तीसरी शताब्दी का माना जाता है । महाभारत को जय संहिता , भारत और महभारत नाम से भी जाना जाता है।आजकल जो हम महाभारत पढ़ते हैं , वह महाभारत ग्रंथ कई सदियों की धारणा से गुजर कर आई है ।

mahabharat kab likhi gayi, पुराने समय में ऋषि मुनि अपने ज्ञान को अपने शिष्यों को मौखिक रूप में देते थे । क्योंकि उस समय भाषा और लिपि इतनी समृद्ध नहीं थी । धीरे-धीरे ऋषि-मुनियों ने लिखना शुरू किया , हो सकता है उनको ज्ञान का विलुप्त होने का डर हो इसका फायदा यह हुआ कि आज विज्ञान जीवित है। हमने यह तो जान लिया कि महाभारत किसने लिखी है , इससे आपको अच्छी तरह से पता लग गया होगा , कि महाभारत असल में किसने लिखी थी । अब हम महाभारत को लिखने के समय के बारे में बात करते हैं , वैसे तो महाभारत को लिखने का सही समय किसी को भी नहीं पता है । पर यह है माना जाता है,  कि महाभारत 5000 से 3000 ईसा पूर्व या निश्चित तौर पर 1900 ईसवी पूर्व रची गई होगी , जो महाभारत में वर्णित ज्योतिषीय,   तिथियों से मेल खाती है।

 

Note-

दोस्तों आज हमने आपको lmahabharat kaun likha hai, mahabharat kaun likha tha, mahabharat ki katha kisne likhi thi के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जानकारी चाइये तो हमारा ये ब्लॉग फॉलो करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *