Khujli Ki Dawa In Hindi खुजली की दवा इन हिंदी

Khujli Ki Dawa In Hindi दोस्तों, खुजली होना एक आम समस्या है जो हर किसी को हो सकती है इसलिए आज हम आपको कुछ होम्योपैथिक दवाइयों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन के लक्षणों के आधार पर आप होम्योपैथिक दवाइयों का चयन कर सकते हैं साथ ही आप खुजली की समस्या से भी छुटकारा पा सकते हैं। चलिए तो जानते है वह होम्योपैथिक दवाइयां कौन-कौन सी है?

Khujli Ki Dawa In Hindi खुजली की दवा इन हिंदी – Purane se purane daad ki dawa

Khujli Ki Dawa In Hindi

खुजली की दवा इन हिंदी

खुजली की होम्योपैथिक दवाइयां – Khujli ki tablet

1- सल्फर (Sulphur) 30 : dad ki dawai

यह खुजली की एक प्रमुख दवा है। खुजली तेज होती है। रोगी तब तक खुजाता है जब तक त्वचा छिल न जाए। खुजलाने के बाद बेहद जलन होती है। जब जलन होती है तब खुजली कम हो जाती है। खुजली शाम और रात के वक्त, बिस्तर में जाने के बाद तथा गर्म कमरे में बढ़ जाती है। 

Also See :- Daad Khaj Khujli Medicine Name दाद खाज खुजली मेडिसिन के नाम

 

2- डोलीकोस पुरियंस (Dolichos pruriens) 6 : Khujli Ki Dawa In Hindi

शरीर में बिना दानों के तेज खुजली होती है। खुजली रात में और गर्मी से बढ़ जाती है। खुजाने से खुजली और ज्यादा होती है। जहां बाल ज्यादा होते हैं, वहाँ खुजली ज्यादा होती है। बूढ़े लोगों में इस प्रकार की खुजली ज्यादा पाई जाती है। पीलिया (jaundice) के दौरान, गर्भावस्था में इस प्रकार की खुजली में यह दवा लाभदायक है।

 

3- फेगोपाइरम (Fagopyram) 3 : Purane se purane daad ki dawa

 घुटनों, कोहनियों और जिस जगह पर बाल ज्यादा हैं की खुजली में, बूढ़े लोगों की खुजली में यह दवा ज्यादा लाभदायक है। खुजली में ठंडे पानी से नहाने पर आराम मिलता है। खुजाने, स्पर्श करने और आराम करने से खुजली ज्यादा होती है। योनि में और योनि के आस-पास की खुजली में भी यह दवा लाभदायक है।

 

4- बोविस्टा (Bovista) 3, 6: dad ki dawai

खुजली इतनी तेज होती है कि रोगी को खुजाना ही पड़ता है और वह तब तक खोजता रहता है जब तक उस जगह की त्वचा छिल नहीं जाती। खुजाने के बाद बेहद जलन होती है। नहाने के बाद खुजली बढ़़ जाती है। रीढ़ की हड्डी के नीचे के हिस्से में इस प्रकार की खुजली ज्यादा हुआ करती है।

 

5- मेजेरियम (Mezerium) 30 : Khujli Ki Dawa In Hindi

त्वचा पर किसी भी तरह की फुन्सी या दानें न होने पर भी जबरदस्त खुजली होती है। रोगी जैसे ही गर्म कमरे में या बिस्तर में जाता है खुजली शुरू हो जाती है। इस खुजली की विशेषता यह है कि रोगी एक जगह खुजाता है तो दूसरी जगह खुजली होने लगती है। रोगी जितना खुजाता है खुजली उतनी ही बढ़ती जाती है। रोगी जहाँ खुजाता है वहां लाल चकत्ते पड़ जाते हैं।

 

6- (Psorinum) 200 – Purane se purane daad ki dawa

पूरे बदन पर खुरंडदार दाने होते हैं। बदन जैसे ही गर्म होता है खुजली होने लगती है। इतनी खुजली होती है कि रोगी खुजाते-खुजाते त्वचा को छील डालता है और वहां से खून निकलने लगता है। बिस्तर में जाने पर खुजली बढ़ जाती है, जिसकी वजह से रोगी सो नहीं पाता। सिर्फ 200 शक्ति की एक खुराक दें पंद्रह दिन से पहले दूसरी खुराक न दें।

 

7- मर्युरियस सोलुबिलिटी (Mercurius solubilis) 3, 6 : khujli ki tablet

पूरे बदन में खुजली होती है। खुजली रात में बढ़ जाती है। बिस्तर में जाने के आधे घंटे बाद जब विस्तर गर्म हो जाता है तो खुजली की वजह से रोगी की नींद खुल जाती है और वह पागलों की तरह खुजाने लगता है। विस्तर में इतनी तेज खुजली होती है कि उसे बिस्तर छोड़ना पड़ता है। खुजाने से रोगी को अच्छा लगता है। इस दवा के रोगी को पसीना ज्यादा आता है पसीना बदबूदार होता है। रोगी न ज्यादा ठंड सहन कर सकता है, न ज्यादा गर्मी।

 

8- रस टॉक्स . (Rhus tox.) 6, 30 : Khujli Ki Dawa In Hindi

पूरे बदन में खुजली होती है, खासकर बाल वाले हिस्सों में। खुजाने के बाद वह जगह लाल हो जाती है और वहां पर छोटे-छोटे छाले पड़ जाते हैं। खुजाने के बाद छालों में जलन होती है। नाई के यहां हजामत करवाने से खुजली होने पर भी यह दवा लाभदायक है।

 

9- क्लेमाटिस (Clematis) 6, 30 : khujli ki tablet

पूरे बदन में खुजली होती है। ठंडे पानी से नहाने से खुजली बढ़ जाती है। खोपड़ी, सिर के पिछले भाग के आस-पास खुजली ज्यादा होती है। बिस्तर की गर्मी से खुजली बढ़ जाती है।

 

10- क्रोटन टिग्लियम (Croton tiglium) 6, 30 : Purane se purane daad ki dawa

पूरे बदन में, घुसकर, जननेंद्रिय और फोतों (scrotum) में खुजली होती है, लेकिन रोगी खुजा नहीं सकता, क्योंकि खुजाने से दर्द होता है। खुजली में धीरे-धीरे खुजाने से आराम मिलता है। रूमेक्स (Rumex) 6 : खुली ठंडी हवा में बदन खोलकर जाने से या कपड़े उतारने पर या सुबह के वक्त उठने पर (बिस्तर छोड़ने के बाद) खुजली बढ़ जाती है।

 

11- रूटा (Ruta) 30 : Khujli Ki Dawa In Hindi

मांस खाने के बाद बदन में खुजली शुरू होती है, जो खुजाने से कम हो जाती है।

 

12- आर्सेनिक एल्बम (Arsenic album) 6 : dad ki dawai

त्वचा की खुश्क खुजली, न पर बाजरे की तरह के बारीक दानें जिनमें तेज खुजली होती है। रोगी खुजाए बिना नहीं रह सकता। खजाने के बाद तेज जलन होती है। गर्म सेंक से जलन में आराम मिलता है।

 

13- अगेरिकस (Agaricus) 30 : khujli ki tablet

शरीर पर बारीक दाने या फुंसियां निकल आती हैं। रोगी को ऐसा लगता है कि उन दानों में कुछ रंग रहा है। दानों में क जैसा दर्द होता है, जलन होती है।

 

14- एल्युमिना (Alumina) 30 :  Khujli Ki Dawa In Hindi

तेज खुजली होती है। रोगी इतना खुजलाता है कि खून निकलने लगता है और दर्द होता है। खून निकली हुई जगह पर पपड़ी जम जाती है और वहां पर दर्द होता है। बिस्तर की गर्मी से या थोड़ी भी देर गर्मी में रहने से खुजली बढ़ जाती है। कपड़े उतारने पर भी खुजली होने लगती है।

 

15- कार्बो वेज. (Carbo veg.) 30 : dad ki dawai

त्वचा पर सूखे बारीक दाने निकलते हैं, ये दाने पीसकर पैरों पर ज्यादा होते हैं। बिस्तर की गर्मी से खुजली बढ़ जाती है, लेकिन कपड़े उतारने पर भी खुजली होती है। 

 

16- एपिस (Apis) 30 : khujli ki tablet

त्वचा पर गुलाबी रंग के दाने निकलते हैं जिनमें बेहद खुजली होती है और डंक मारने जैसी चुभन होती है। बिस्तर की गर्मी से खुजली बढ़ जाती है। 

 

17- टेल्लुरियम (Tellurium) 6 : Khujli Ki Dawa In Hindi

नाई के यहां बाल कटवाने या दाढ़ी बनाने के बाद अगर खुजली होने लगे तो दिन में तीन बार इस दवा को दें।

 

Note : Khujli Ki Dawa In Hindi

दोस्तों आज हमने आपको Khujli Ki Dawa In Hindi के बारे में बताएं khujli ki tablet और dad ki dawai के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जिसमें Skin Care In Hindi के बारे में जानकारी दी है उसकी link लिंक यह है !

Leave a Reply

Your email address will not be published.