Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj कान के परदे में छेद का होम्योपैथिक इलाज

Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj कान हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है। इसी की वजह से हम सुन सकते है। सुनकर कुछ कह सकते है। यह न हो तो हमारा जीवन कुछ अधूरा सा रह सकता है। यह हमारे शरीर के अन्य अंगों की तरह ही हमारा बहुत उपयोगी अंग है। जब कभी किसी कारण हमारे कान के पर्दे में छेद हो जाता है। जिस कारण हमें सुनाई देना बंद हो जाता है और हमे बहुत परेशानियां आने लगती है। 

Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj कान के परदे में छेद का होम्योपैथिक इलाज

Ear problems in hindi – Kaan ka parda

Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj

कान के परदे में छेद का होम्योपैथिक इलाज

कान के परदे में छेद का मतलब है कान के परदे में छेद होना या मेडिकल की भाषा मे कहे तो,  “टिम्पेनिक झिल्ली का फटना”। टिम्पेनिक झिल्ली एक पतली परत होती है, जो आपके अंदर के कान को और बाहरी कान को अलग करती है। इसलिए अगर आपको भी कान कर पर्दे फटने की समस्या आ गयी है, तो आज हम कान के पर्दे फटने के कारण आपको बताने जा रहे है साथ ही आपको कुछ होम्योपैथिक दवाइयों के बारे में मैं भी बताने जा रहा है जिसकी वजह से आप इस समस्या से छुटकारा पा सकता है। Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj

Also See :- Daad Khaj Khujli Medicine Name दाद खाज खुजली मेडिसिन के नाम

 

कान के परदे के फटने के कारण – kan ka ilaj

1- कान के परदे में इन्फेक्शन होने के कारण अक्सर कान के पर्दे फट जाते हैं। इसमे बार-बार कान के पर्दे में इंफेक्शन होने लगता है जिसकी वजह से कान के पर्दे फट जाते है।

2- अगर कान में किसी ने बहुत तेज मारा है या आप कान के बल गिर गए है, तो भी कान के पर्दे फट जाते है।

3- बहुत तेज आवाज से भी कान के पर्दो में छेद हो जाता है। अचानक बहुत तेज आवाज कान में पड़े और कान से बर्दाश्त नहीं कर पाए। ऐसी परिस्थिति में कान के पर्दो को नुकसान पहुँच सकता है।

4- कान का मेल साफ करने के लिए कान में डाली गई चीजो के कारण भी कान के पर्दे फट सकते है।

 

कान के परदे में छेद की होम्योपैथिक दवा – ear hole treatment in hindi

 

1- Ledum Palustre 30 CH –

यह दवा कान के पर्दे को ठीक करने में बहुत लाभदायक है। कान के इंफेक्शन को भी ठीक करने में यह दवा बहुत ही अच्छा काम करती है।

 

दवा कैसे ले –

Ledum palustre की 3 बून्द आपको सुबह-दोपहर और शाम को लेनी चाहिए। इस दवा का इस्तेमाल 6 महीनों तक रोजाना जरूर करे।

 

2- Pulsetilla(6CH)+Kali muriaticum(6CH)+Silicea (6CH) –

यदि कान में मवाद पढ़ता हो और उस में से बहुत बदबू आती हो, तो इसके लिए “Pulsetilla” बहुत ही अच्छी दवा है। अगर मवाद लगातार निकलता हो, साथ मे।दर्द बना रहे, तो इसके लिए “Kali muriaticum” बहुत ही अच्छी दवा है। मवाद को जल्दी सूखाने के लिए “Silicea” बहुत ही अच्छी दवा है और यह इंफेक्शन को ठीक करने का काम करती है।

 

दव कैसे ले –

यह तीनों दवा की 6CH potency में बराबर-बराबर मात्रा मे एक अलग बड़ी शीशी में अलग से ले लेना हैं। फिर इस मिश्रण वाली दवा की 3 से 4 बून्द जीभ पर सुबह, दोपहर और शाम को लेना है। इस दवा का उपयोग भी 6 महीनों तक लगातार करना है।

 

3- Hepar sulphur 200CH –

यह दवा कान के परदे का मावाद ठीक करके उसे जल्दी ठीक करने का काम करती है और साथ मे कान के इंफेक्शन को भी ठीक करती है। जिससे दौबारा कान फटने की संभावना नही रहती है।

 

दवा कैसे ले –

इस दवा की 2 बूंद रोजाना 10 दिनों तक रोजाना सुबह ले। 10 दिन बाद इस दवा का सेवन बंद कर दे। इससे आपको आराम मिल जाएगा।

 

4- Kalium lodatum 30 CH –

अगर कान में सर-सर की आवाज आती हो, जिस कारण आपका मन बहुत व्याकुल रहता हो, तो यह दवा ऐसी समस्या के लिए बहुत लाभकारी है। 

 

दवा कैसे ले –

इस दवा की 2 से 3 बूंदे रोजाना सुबह-शाम जीभ पर टपकाना है। कुछ दिनों तक लगातार इस दवा का उपयोग करने से कान में से सर-सर की आवाजें आना बंद हो जाएगी। इस दवा का सेवन आप तब ही करे जब आपके कान में से सर-सर की आवाज आती हो।

 

Note : Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj

दोस्तों आज हमने आपको Kaan Ke Parde Me Ched Ka Homeopathic Ilaj के बारे में बताएं ear hole treatment in hindi और kan ka ilaj के बारे में जानकारी दी अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो कृपया कमेंट सेक्शन पर अपना समर्थन दें और अगर आपको इसमें कुछ सुधार समझ आता है तो वह भी हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं हमारे अन्य ब्लॉक जिसमें Skin Care In Hindi के बारे में जानकारी दी है उसकी link लिंक यह है !

Leave a Reply

Your email address will not be published.