टाइफाइड की होम्योपैथिक दवाई – about typhoid in hindi – typhoid ka ilaj

टाइफाइड की होम्योपैथिक दवाई – about typhoid in hindi – typhoid ka ilaj

about typhoid in hindi  यह एक खतरनाक बुखार है। यह बुखार Bacillus typhosus कीटाणुओं के शरीर में हो पहुँच जाने की वजह से होता है। इस बुखार की अवधि (मियाद) में  21 से 42 दिनों तक हो सकती है इसलिए इसे “मियादी बुखार” भी कहा जाता है। इस बुखार में शरीर का मोती जैसे लाल दाने निकलते हैं। यह बुखार तीन हफ्तों तक रहता है और चौथे हफ्ते में कम हो जाता है। लेकिन यह कभी-कभी ज्यादा समय भी लेता है। बुखार धीरे-धीरे बढ़ता है। सुबह के समय जितना होता है उससे शाम को 1, 1-1/2 डिग्री ज्यादा रहता है। एक बार किसी को हो जाने पर जीवन में दूसरी बार नहीं होता है लेकिन कभी-कभी इसके अपवाद भी पाए गए हैं। एक बार आराम हो जाने के बाद किसी किसी को दोबारा भी हो जाता है। about typhoid in hindi

टाइफाइड की होम्योपैथिक दवाइयां – about typhoid in hindi

नीचे दी गई होम्योपैथिक दवाइयों के लक्षणों के आधार पर आप होम्योपैथिक दवाइयों का सेवन कर सकते हैं।

 

1- जेलसेमियम सेम. (Gelsemium Sem.) 6, 30- typhoid ka ilaj

a- यह दवाई टाइफाइड के शुरुआत के दिनों में यह दवा दी जाती है।

b- निंदासापन (Drowsiness) और प्यास ना होना इस दवा के प्रमुख लक्षण है।

c- बुखार में पूरे बदन में ऐसा दर्द होता है जैसे किसी ने उसकी पिटाई कर दी हो। बुखार शाम के समय पड़ता है। बुखार के दौरान बहुत सुस्ती और कमजोरी रहती है। d- रोगी चुपचाप लेटा रहना चाहता है। कमजोरी की वजह से चल फिर नहीं सकता है। चलने की कोशिश करने पर चक्कर आ जाते हैं। 

e- जबान बाहर निकालने पर काँपती है। जबान पर पीला, सफेद या भूरे रंग का लेप चढ़ा रहता है। पलकों में भारीपन आ जाता है। रोगी चाहते हुए भी आंखे नहीं खोल पाता है।

f-  सिर भारी हो जाता है बड़ा हो गया ऐसा लगता है सिर में तेज दर्द रहता है। खासकर गुददी में जो खुलकर पेशाब हो जाने पर कम हो जाता है। बुखार के दौरान बिल्कुल भी प्यास नहीं होती है।

 

दवाई कैसे ले- about typhoid in hindi

“जेलसेमियम सेम.” की 6 या 30 शक्ति दिन में तीन बार ले।

 

2- ब्रायोनिया एल्बा (Bryonia Alba) 30 – about typhoid in hindi

a- यह दवा टाइफाइड बुखार की महत्वपूर्ण दवाओं में से एक है। यह बीमारी की शुरुआत में और बढ़ी हुई अवस्था में उपयोगी है।

b-  इस के विशिष्ट लक्षण हैं- बुखार के समय पूरे बदन में दर्द जो हिलने डुलने से बढ़ता है। 

c- सिर में फट जाने जैसा दर्द, जबान पर सफेद या पीले रंग का गाढ़ा लेप, भूख न लगना और बहुत प्यास लगना। यह दवा का शुरुआती लक्षण है दवाओं के लक्षणों के आधार पर इस दवा को देने से बीमारी आगे नहीं बढ़ेगी।

d- टाइफाइड की बढ़ी हुई अवस्था में भी यह दवा लाभ पहुँचाती है। इसके लक्षण हैं- सुबह के समय सिर में भारीपन रहना और बाद में नाक में से खून गिरना, पित्त की कड़वी उल्टियां होना, बेहोशी में घर मे रहते हुए भी घर जाने की बातें करना, व्यवसाय की बातें करना, बहुत देर-देर से लेकिन ज्यादा पानी पीना, कब्ज रहना लेकिन कभी-कभी पटले दस्त होते हैं।

 

दवाई कैसे ले- about typhoid in hindi

“ब्रायोनिया एल्बा” की 30 शक्ति दिन में तीन बार ले।

 

3- बप्टिसिया (Baptisia) 6, 30 – typhoid ka ilaj

a- जेल्सीमियम की तरह यह दवा भी टाइफाइड की शुरुआत में बहुत उपयोगी है। लेकिन इन दोनों दवाओं के बारे में महत्वपूर्ण बात यह है जेल्सीमियम के रोगी पर रोग का हमला धीरे-धीरे होता है और बप्टिसिया में तेजी से।

b- तेज बुखार रहता है। रोगी बेहोशी में पड़ा रहता है। पुकारने पर रोगी प्रश्न का छोटा सा उत्तर देते-देते सो जाता है। बेहोशी की हालत में रोगी को ऐसा लगता है कि उसके शरीर के अंग बिखरे पड़े हैं और उन टुकड़ों को इकट्ठा करने की कोशिश में बिस्तर पर बिछी चादर को समेठता रहता है।

c- जवान पर सफेद रहता है होठ ओर दांतो पर भी मेल जमा रहता है। रोगी बेचैन रहता है। उसे उसका बिस्तर कड़ा जान पड़ता है इसलिए मुलायम ढूंढने के लिए हर बार-बार करवट बदलता रहता है।

d- शरीर के सभी स्राव-पेशाब, पखाना, पसीना, साँस आदि बदबूदार होते है। बेहद बदबूदार दस्त होते है।

e- शुरुबात में ही अगर लक्षणों के आधार पर यह दवा दी गई तो बीमारी पूरी होने से पहले ही छूट जाती है।

 

दवाई कैसे ले- about typhoid in hindi

“बप्टिसिया” की 6 या 30 शक्ति दिन में तीन बार ले।

 

4- रक्स टॉक्स (Rhux-tox.) 30, 200 – about typhoid in hindi

a- यह दवा भी टाइफाइड बुखार में एक उपयोगी दवाओं में से एक है।

b-इसे उस समय दिया जाता है जब रोगी को बहुत कमजोरी के साथ पतले या खूनी दस्त आने लगते हैं।

c- रोगी बेहद बेचैन रहता है, बार-बार करवटें बदलता है। जबान का अगला तिकोना हिस्सा लाल रहता है। कमर और हाथ पैरों में दर्द रहता है।

d- होठ और ठोड़ी के आसपास छाले निकल आते हैं। पीले, भूरे बदबूदार दस्त आते हैं और यह दस्त अनजाने में निकल जाते हैं।

 

दवाई कैसे ले- typhoid ka ilaj

“रक्स टॉक्स” की 30 या 200 शक्ति दिन में तीन बार ले।

 

5- अर्निका मोन्टाना (Arnica Montana) 30, 200 – typhoid ka ilaj

a- यह दवा टाइफाइड में उस समय उपयोगी है जब नीचे लेकर लक्षण रोगी में मौजूद हो।

b- पूरे शरीर में कुचल जाने जैसा दर्द होता है। रोगी को उसका बिस्तर कड़ा मालूम पड़ता है इसलिए मुलायम जगह की तलाश में वह बार-बार करवटें बदलता रहता है।

c- बुखार में रोगी बेहोस सा पड़ा रहता है। पुकारने पर क्या कुछ पूछने पर एक दो बातों का जवाब देकर फिर सो जाता है। रोगी नहीं जानता है कि वह बीमार है जब कोई उससे पूछता है कि वह कैसा है तो कहता है मैं ठीक हूं। 

d- अनजाने में पेशाब और खाना निकल जाता है। रोगी का सिर गर्म और ठंडा रहता है। शरीर पर काले दाग पड़ जाते हैं। नाक से खून निकलता है।

 

दवाई कैसे ले- about typhoid in hindi

“अर्निका मोन्टाना” की 30 या 200 शक्ति दिन में तीन बार ले।

 

6- आर्सेनिकम एलबम (Arnica Album) 30 – about typhoid in hindi

a- यह दवा टाइफाइड आर्सेनिक की जरूरत दूसरे या तीसरे हफ्ते में होती है।

b- जब रोगी बहुत कमजोर हो जाता है, बदबूदार दस्त आते हैं। रोगी बेहद बेचैन रहता है लगातार सिर और हाथ-पैर हिलाता रहता है।

c- काले रंग के बदबूदार दस्त होते हैं। थोड़ी देर में एक दो घूंट पानी पीता है। जवान बहुत लाल होती है। दातों पर मेंल जमा रहता है। मुंह में छाले पड़ जाते हैं उन में से खून निकलता है।

d- शरीर ठंडे पसीने में भीगा रहता है बुखार रात में 12:00 से 2:00 के बीच और रात दिन में 12:00 से 2:00 के बीच बढ़ जाता है।

 

दवाई कैसे ले- about typhoid in hindi

“आर्सेनिकम एल्बम” की 30 शक्ति दिन में तीन बार ले।

 

7- कार्बो वेज. (Carbo Veg.) 30 – typhoid ka ilaj

a- यह दवा उस समय दी जाती है जब रोगी की जीवन शक्ति बहुत कमजोर हो जाती है और ऐसा लगता है कि रोगी का आखिरी समय आ गया है।

b- रोगी नब्ज विहीन लेटा रहता है चेहरा मुर्दे जैसा पीला हो जाता है। पूरा शरीर ठंडा और पैर और टांगे खासतौर पर घुटने के नीचे का हिस्सा बर्फ जैसा ठंडा रहता है।

c- पूरा शरीर ठंडे पसीने से तर रहता है शरीर ठंडा होने के बावजूद रोगी पंखा करने के लिए कहता है। पेट तना रहता है ओर बदबूदार हवा खारिज होती है।

 

दवाई कैसे ले- about typhoid in hindi

“कार्बो वेज.” की 30, 200 या 1M शक्ति दिन में तीन बार ले।

Daad Ke Liye Homeopathic Dawa के बारे में जानकारी के लिए यह लेख पढ़ें.

Chehera Gora karne Ki Tips In Hindi के बारे में जानकारी के लिए यह लेख पढ़ें

Dream11 के बारे में जानकारी के लिए यह लेख पढ़ें

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.